Pyar Mein Pagal Karne Ka Wazifa in English hindi +91-9672378978***

 

20180208094224.jpg

On the day and any suitable time when you start this wazifa you can go ahead. Pyar Mein Pagal Karne Ka Wazifa has benefited number of people, Alhamdulillah, they got happily married, masha ALLAH. So never-ever doubt have faith in ALLAH Ta’ala and pray a lot. Insha ALLAH you also will get your life partner with your choice. Better perform a ya ALLAH Nikah Istikhara first, or any other Istikhara, once it comes positive you can go ahead with this wazifa.

  1. Make a fresh ablution;
  2. Make (7) wraps/packets of pure white sugar with pure and cleansed white paper;
  3. Recite The Noble Quran, Surah #105 ‘Alam tara kaifa in this way- Alam Tará Kayfa bastam khawah o khoor ‘his/her name(For whom you are doing this wazifa)’ son of/daughter of ‘mother’s name’ Fa`ala Rabbuka Bi’aşĥābi Al-Fīl ‘Alam Yaj`al Kaydahubastam khawah o khoor ‘his/her name(For whom you are doing this wazifa)’ son of/daughter of ‘mother’s name’ Fī Tađlīlin Wa ‘Arsala `Alayhim Ţayan ‘Abābīla TarmīhimBiĥijāratin Min Sijjīlin Faja`alahum Ka`aşfin Ma’kūlin bastam khawah o khoor ‘lover’s name son of/daughter of ‘mother’s name’ ‘Ala hub ‘your own name’ son of/daughter of ‘your mother’s name’. This entirely counts as one (1) time. Recite ‘Bin’ for boy and ‘binte’ for girl. For example- If you are reciting for a boy then ‘bastam khawah o khoor Muzaffar bin Mariyam’ if for a girl then bastam khawah o khoor Amina binte Nafeesa’. If you don’t known mother’s name in this case you can recite “Hawwa“;
  4. Recite your lovers’ name and his/her mother’s name each time after all the three Khawah-o-Khoor;
  5. After ‘ala hub recite your name bin/binte your mother’s name;
  6. Perform in this way 41 times and blow on one wrap/packet of sugar;
  7. After putting one wrap/packet on to the place where ants or any similar insects can eat this sugar;
  8. Perform this wazifa continuously for 7 days. 7 wraps/packets will be for 7 days;
  9. Insha ALLAH Ta’ala the lover will come in front of you;
  10. After that you can proceed forward for your nikah;
  11. Do not perform this wazifa for any girlfriend-boyfriend relationship, as this is haram in Islam;

Important Note: Female must not perform this during 7 days of their menses/periods. Wives can perform this amal to get the love of their husband, in this case, they are not required to perform ya ALLAH Nikah Istikhara or any other Istikhara.

If you perform this with 100% devotion and dedication along with the honesty. Insha ALLAH this Pyar Mein Pagal Karne Ka Wazifa will surely be proven effective and working. No doubt if your aim is legible and in your favor ALLAH Ta’ala will grant you your wish, Ameen.

Pyar Me Pagal Karne Ka Wazifa in Hindi Version

प्यार में पागल करने का वज़ीफ़ा हिंदी में

ये वज़ीफ़ा करने से पहले आप या अल्लाह निकाह इस्तिखारा या फिर कोई और इस्तिखारा अगर आपने पहले करवा रखा है और  ये आपके हक़ में आया है तो आप नीचे दिया हुआ कर सकते है| अल्लाह पाक आपकी जायज़ मुराद पूरी करे, आमीन|

किसी भी रोज़ जब शुरू करना हो:

  1. सबसे अव्वल ताज़ा वुज़ू बना लीजिये;
  2. शक्कर सफ़ेद लेकर उसकी (7) सात पुरियां पाक -साफ काग़ज़ से बना ले;
  3. उसके बाद क़ुरान-ए-करीम की सूरह #105 ‘अलम तरा कयफा’ इस तरह से पढ़े – अलम तरा कयफा बस्तम ख़वाह ओ ख़ूर फलां बिन/बिन ते फलां फ ‘अला रब्बुका बी अस हाबिल फील अलम यज ‘अल कयदा हुम बस्तम ख़वाह ओ ख़ूर फलां बिन/बिन ते फलां फी तद लीलींव तैरन अबा बील तरमी हिम्मबिहिजा रतिम्म मिन सिज्जिलिन फजा ‘आ लहुम क आस्फीम्म मा ‘अ कुल बस्तम ख़वाह ओ ख़ूर माशूक़ का नाम बिन ते/बिन माँ का नाम ‘अला हुब ख़ुद का नाम बिन ते/बिन माँ का नाम| ये पूरा एक मर्तबा हुआ| अगर लडके हो तो ‘बिन’ बोले और अगर लड़की हो तो ‘बिनते ‘ बोले| मिसाल के तौर पर – अगर लडके के लिए पढ़ रहे है तो “बस्तम ख़वाह ओ ख़ूर मुज़फ्फर बिन मरियम” अगर लड़की है तो “बस्तम ख़वाह ओ ख़ूर अमीना बिनते नफीसा“| माँ का नाम नहीं मालूम तो ऐसी सूरत में कहिये “हव्वा“;
  4. तीनो ख़वाह ओ ख़ूर  के बाद जिनके लिए अमल कर रहे है उनका नाम और उनकी माँ का नाम लेना है;
  5. ‘अला हुब के बाद अपना नाम बिन/बिन्ते अपनी की माँ का नाम लीजिये;
  6. इसी तरह से तरकीब ता ‘दाद 41 मर्तबा पढ़ कर सफ़ेद शक्कर की पुड़िया पर दम करदे;
  7. रोज़ाना एक पुड़िया पर दम कर दीजिये और फिर उस पुड़िया को चीटीँयो या कोई इसी तरह के कीड़े मकोड़ो को खाने के लिए डाल दीजिये;
  8. इस अमल को सिर्फ 7 यौम (रोज़) तक बिला नागाह करे| तो इस तरह से 7 रोज़ के लिए 7 पुड़िया होंगी|
  9. इंशा अल्लाह त ‘आला माशूक़ फ़ौरन हैरान व परेशान होकर हाज़िर होगा| इसके बाद आप फिर अपनी निकाह की बात कर सकते है;
  10. इसके बाद आप फिर अपनी निकाह की बात भी कर सकते है;
  11. नाजायज़ रिश्ते के लिए क़तई न कीजिये;

ग़ौरतलब: ये अमल सिर्फ और सिर्फ उन लोगो के लिए है जो एक दूसरे से दिली और सच्ची मुहब्बत करते थे और निकाह करना चाहते थे| मगर दोनों में से कोई भी बदल गया और या/अब निकाह की ख़्वाहिश नहीं रखता|

ये अमल उनके लिए क़तई न कीजिये जो आपको जानते भी नहीं है| हर किसी के दिल में इस अमल से मुहब्बत पैदा करने की कोशिश नहीं करे, ये हराम है| इस तरह के किसी भी नाजायज़ मक़सद के लिए क़तई नहीं करे|

बीवी अपने शौहर की मुहब्बत हासिल करने के लिए ये वज़ीफ़ा कर सकती है| ऐसी सूरत में ख़वातीन को निकाह इस्तिख़ारा करना ज़रूरी नहीं है| ख़वातीन हैज़ के 7 रोज़ में क़तई न कीजिये बल्कि ऐसे रोज़ शुरू करे जब वो पुरे 7 रोज़ बिला नागाह कर सके| अल्लाह अज़्ज़वजल आपकी तमाम जायज़ मुराद पूरी करे, आमीन|

Advertisements